Let’s travel together.

प्यार की कुर्बानी दोस्त के खातिर – एक रियल Heart Touching Story in Hindi

0 17

मै अपने ऑफिस में काम कर रहा था तभी मेरी नजर गेट पे पड़ी मैंने देखा कि एक सामने से खूबसूरत सी लड़की आ रही थी ओ दिखने में एकदम परी सी लग रही थी। O मेरे सामने से गुजर गई और मै देखता ही रह गया ।उसको देखने के बाद मुझे एक शायरी याद आ गई

एक लाइन में क्या तेरी तारीफ़ लिखू
पानी भी जो देखे तुझे तो प्यासा हो जाये!!!

 

फिर मैंने पता लगाया कि कौन है ए सुंदर सी परी तो पता चला कि न्यू ज्वाइनिंग थी उसकी और उसका नाम राधिका है।

राधिका मेरी सीट के सामने ही बैठी मै तो बहुत ज्यादा खुश हो गया । मैंने भगवान को दिल से थैंक्यू बोला । अब आप लोग सोच रहे होंगे कि राधिका मेरे सामने वाली 💺💺💺 सीट पे ही क्यों बैठी तो बात कुछ इस प्रकार है कि

ओ भी मेरी ही टीम कि बंदी थी तो और मेरे ऑफिस में टीम member एक साथ बैठते हैं।इसके ओ मेरे सामने बैठी। उसका introduction हुआ तो पता चला कि उसका नाम राधिका है।

धीरे धीरे हमारी बातें स्टार्ट हो गई ।हम  साथ मै लंच करने लगे साथ मै घूमने लगे ।

मेरा एक दोस्त था जिसका नाम मोहित था ओ मेरा बेस्ट friend tha o bhi radhika से बाते करता था।

मै तो राधिका को १st day से ही चाहता था। मै उसे डेली न्यूज़ मॉर्निंग का msg send krta tha और राधिका भी मेरे msg का reply करती थी। हम काफी अच्छे दोस्त बन गए थे । यहां तक कि हम लंच भी share करते थे।

मेरा दोस्त भी राधिका से बाते करता था। मुझे kisi वजह से होमटाउन जाना पड़ा ।

मैंने सोचा था कि जब mai bangluru jaunga तो इस बार राधिका को प्रपोज जरूर करूंगा।

करीब १ वीक बाद मै ऑफिस आया उस दिन Sunday tha so mai apne dost ke room पे जाने की सोचा।सी मै अपने दोस्त के रूम पे पहुंच गया ।

Dost ne दरवाजा खोला और ओ surprise हो गया बोला ki तुम तो कल आने wale थे maine kha ki । मैंने bol कि मै मजाक kr rha tha और मै अंदर chala gya ja Mai अंदर आया तो मेरे पैर से जमीन खिसक गई।मैंने देखा ki राधिका भी whi थी मै to हैरान हो गया।

तो मेरे दोस्त ne bola की राधिका mera room देखने ayi थी। मैंने nhi सोचा था ki mera दोस्त bhi राधिका ko पसन्द करता है।

मैंने कुछ नहीं बोल। राधिका ने मुझे हेलो बोला मैंने भी हेलो बोल। मै तो कुछ संघ नहीं पाया की इ सब क्या हो गया। सोचा था की मै राधिका को प्रोपोज़ करूँगा but नहीं कर पाया मैं सोचा की अब मै क्या करू मै क्या करू क्या मै अपने दोस्त के लिए लड़की को कुछ न बोलू और चुप चाप चला जाऊ या फिर मै राधिका को प्रोपोज़ कर लू।
finally मैंने decide किआ की मै दोस्त के खातिर प्यार को kurban कर du। और मैंने bina कुछ bole अपने दोस्त के रूम से चला गया। और मैंने राधिका से बात करना बंद कर दिया।

सो दोस्तों कैसे लगी मेरी स्टोरी कमेंट कर के जरू बताना मै आपको next पार्ट में बताऊंगा कि राधिका और mere dost ki love story कैसे start हुई।

 

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.