Let’s travel together.

Hindi Story Of Akbar And Birbal

0 2

बीरबल – जहाँ पनाह इस तम्बू के अंदर एक-एक करके सिपाही और दासियो को भेजिए और इन सबको गधे की पूंछ पकड़ कर ये बोलना है कि मैंने चोरी नही की। जब ये सारे लोग गधे की पूंछ पकड़ लेंगे, तभी मेरा दोस्त बताएगा चोर कौन है।

अकबर – ठीक है! सिपाही और दासियो आप सभी लोग एक-एक कर गधे की पूंछ पकड़िए।

और फिर सभी सिपाही और दासी गधे की पूंछ पकड़ते हैं –

बीरबल – अब मैं अपने दोस्त से पूछ कर आता हूँ कि चोर कौन है।

(कुछ देर बाद) जहाँ पनाह हमे इन सभी के हाथ सूंघने हैं। और तभी हाथ सूंघने के बाद, ये सिपाही चोर है।

सिपाही – नहीं, जहाँ पनाह मैंने कोई चोरी नही की, मैंने तो आपकी इतने वर्षों से सेवा की है। इस गधे की गवाही कुछ साबित नही करती है।

अकबर – बीरबल तुम कैसे कह सकते हो कि यही चोर है। तुम गधे की बात कैसे समझ सकते हो।

बीरबल – जहाँ पनाह मैंने उस गधे की पूंछ पर एक खास इत्र लगा दिया था। इसलिए मैंने इन सभी से गधे की पूंछ पकड़ने को कहा और जहाँ पनाह मैं ये भी जानता था कि चोर पकड़े जाने के डर से गधे की पूंछ नही पकड़ेगा। उस इत्र की खुशबू सभी के हाथों में से आ रही थी। लेकिन जब मैंने इसके हाथ सूंघे, तो इसके हाथों में वह खुसबू नही आ रही थी। इसलिए यही चोर है।

अकबर – नमक हराम हम तुम्हे इसकी सजा देंगे।

सिपाही – नही जहाँ पनाह मुझे माफ़ कर दीजिए। मैं लालची हो गया था। मुझे माफ़ कर दीजिये। मैं चोरी की हुई सारी चीजें लौटा दूंगा। बस मुझे माफ़ कर दीजिए।

अकबर – नही तुम्हें माफ नही किया जा सकता है, जिस थाली में खाते हो उसी मे छेद करते हो, सिपाहियों ले जाओ इसे काल कोठरी में डाल दो।

बीरबल एक बार फिर आपने अपनी चतुराई से उस चोर को पकड़वा दिया, शुक्रिया बीरबल! शुक्रिया!

बीरबल – शुक्रिया जहाँ पनाह!

Leave A Reply

Your email address will not be published.